वोट बोले पैसे की जुबानी

देश

खबर का शीर्षक थोड़ा आप को विचलित कर सकता है। लेकिन इसका अर्थ साफ है कि आज के चुनावी रणभेद में जिसके पास अथाह पैसा है वोट उसकी का है। हालिया दिनों में ऐसे अनेकों खबर आए है जहां पैसे और अन्य सामानों का लोभ दे कर आम जनता का वोट खरीदने का कोशिस किया जा रहा है। मौजूदा समय में वोट के पहले लोगो में पैसा के अलावा अन्य चीजों को बाटना कोई नई बात नहीं है।  भारतीय राजनितिक का यह सबसे बड़ा कलंक है कि हर चुनाव में वोट से पहले करोड़ो रुपया वोटरों में गलत तरीके से बाटा जाता है और मतदाता को प्रभावित किया जाता है।

तमिलनाडु के वेल्लोर लोकसभा क्षेत्र से तक़रीबन 11 करोड़ नकदी बरामद होने के बाद यहां मतदान रद्द कर दिया है. इससे पहले आयकर विभाग के छापे को संज्ञान लेते हुए चुनाव आयोग ने इस संबंध में राष्ट्रपति को सिफ़ारिश भेजी थी, जिसकी मंज़ूरी मिलने के बाद बाद चुनाव आयोग से यह फैसला आया है.

दक्षिण भारतीय राज्य तमिलनाडु ने विभिन्न क्षेत्रों में शानदार काम करके मिसाल पैदा की है। भोजन से लेकर सामाजिक कल्याण की योजनाओं, संगीत, फ़िल्म तकनीक और उत्पादन तक में वह अग्रणी रहा है। लेकिन मतदाताओं को रिश्वत लेकर लुभाने के मामले में नए आयाम स्थापित करने को लेकर भी इसकी छवि बेहद ख़राब है। गैरक़ानूनी 11 करोड़ नगदी मिलना किसी भी क्षेत्र और राज्य के लिए बेहद ही दुखद समाचार है।

चुनावी माहौल में किसी एक राज्य और एक क्षेत्र पर गंभीर आरोप लगाना भी उचित नहीं है। इस कड़ी में अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू का भी नाम लिया जाता है। हाल में ही उनके काफिले से 1.8 करोड़ रुपये बरामद होने का कथित आरोप लगाया गया है। अप्रैल महीने के शुरूआती दिनों में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के रैली से ठीक एक दिन पहले अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू के काफिले से 1.8 करोड़ रुपये बरामद होना अगर सही खबर है तो यहाँ भी तमिलनाडु के तरह ही वोटरों को पाने पक्ष में करने का कोशिस हो सकता है।

बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और आंध्र प्रदेश जैसे ऐसे कई बड़े राज्य है जहां पैसे के बल पर मतदताओं को खरीदना अब आम खबर हो गया है। कभी शराब के नाम पर तो कभी कपड़े के नाम पर तो कभी सोने-चांदी के नाम पर तो कभी बर्तन के नाम पर आज हर पार्टियां वोटरों को खरीने में लगी है। हाल में ही बिहार में तक़रीबन बहत्तर हज़ार से अधिक लीटर शराब सड़क पर स्थानीय प्रशसन द्वारा बरामद किया।

इसे भी पढ़े: आज भी यह सवाल है? जलियांवाला बाग हत्याकांड में कितने लोगों की मौत हुई थी ?

इसे भी पढ़े: क्या असल मुद्दें पर है आम चुनाव

अब सवाल यह है कि क्या देश का चुनाव अब पारदर्शिता और साफ-सुथरा चुनाव न रह के पैसे का लेनदेन और बिकाऊ चुनाव रह गया है ? जिस तेजी से सभी चुनावों में पैसे और अन्य सामानों से वोटरों को खरीदने का प्रयास हो रहा है इसका सीधा अर्थ यही है की कोई भी पार्टियां अपने काम से संतुष्ट नहीं है इसलिए आज उन्हें पैसे के बदौलत वोट को खरीदना पड़ रहा है। लिहाज़ा सभी राजनितिक पार्टियों को इस विषय में गंभीरता से सोचने की ज़रूरत है, जिससे चुनावी प्रक्रिया को निष्पक्ष बनाया जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *