दिग्विजय सिंह ने सीएम कमलनाथ के चैलेंज पर जताई सहमति

राजनीति

भोपाल: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने मुश्किल परिस्थिति में भी चुनाव लड़ने के लिए व्याकुल हैं. उन्होनें मुश्किल सीट से भी चुनाव लड़ने की चुनौती पर हामी भर दी है. ये चुनौती मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमनलनाथ ने दी है. इस पर दिग्विजय सिंह ने राहुल गांधी का पक्ष रखते हुए कहा कि जिधर भी मेरे पार्टी ेके नेता लोकसभा चुनाव लड़ने को बोलेंगे मैं वही से चुनाव लड़ूंगा. मुख्यमंत्री कमलनाथ नें दो दिन पहले छिंदवाड़ा में दिये बयान में कहा था कि ” दिग्विजय सिंह को उस सीट से चुनाव लड़ने की जरुरत हैं जहाँ से पार्टी से 30- 35 सालों मे जीत नही हासिल की है “. कमलनाथ ने बताया था कि मैंने उनसे अनुरोध किया था कि अगर वो चुनाव लड़ने का मन बना रहें है तो मध्य प्रदेश की सबसे कठिन सीट से चुनाव लड़े, जहँा हमें 30-35 साल से विजय प्राप्त नही हुई है.

दिग्विजय सिंह ने इस चैलेेंज पर रज़ामंदी जाहिर करते हुए ट्वीट करके बताया कि ” शुक्रिया कमलनाथ जी को जिन्होनें मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सीट कमज़ोर सीट पर चुनाव लड़ने का अवसर दिया. उन्होनें मुझे इस काबिल समझा इसलिए मैं उनका अहसानमंद रहूंगा. राघोगढ़ की जनता के सहयोग से मैंने 77 की जनता पार्टी के वक्त भी जीत का परचम लहराया था. चुनौतियों का सामना करना मेरी हमेशा की आदत है. जहाँ से भी हमारे पार्टी के नेता राहुल गांधी कहेंगे, मैं वहांँ से चुनाव लड़ने के लिए हमेशा तैयार रहूंगा “.

कमलनाथ के बाद ज्योतिरादित्य सिंध्या ने भी अपने बयान में कहा था कि कांग्रेस की तरफ से कठिन सीटों पर दिग्गज नेताओ को चुनाव लड़ने की जरुरत है. दोनों नेताओ की सियासत मे अलग सादगी भरी जुगलबंदी को जानकार नयी अंधरुनी समीकरण से जोड़ा जा रहा है. क्योकीं राजगढ़ जिस पर दिग्विजय दो दफा और उनके भाई लक्ष्मण सिंह 5 बार जीत हासिल की है, उसको छोड़कर वो इंदौर, भोपाल जैसी सीटों पर लड़ने का जोखिम क्यों ले जिस पर भाजपा, बीते कुछ सालों से जीत रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *